Lesson 5 (ज्ञानार्जन के करण)

 विद्याभारती E पाठशाला

Lesson 5 (ज्ञानार्जन के करण)

********

मनुष्य के शरीर में परमात्मा ने दस इंद्रियां दी हैं। पाँच ज्ञानेन्द्रियाँ और पाँच कर्मेन्द्रियाँ। (1) आँख (2) कान (3)जिह्वा (4) नाक (5) त्वचा ये पाँच इन्द्रियाँ विषयों का ज्ञान प्राप्त कराती हैं। आँख से भला-बुरा देखना, कान से कोमल-कठोर शब्द सुनना, नाक से सुगन्ध दुर्गन्ध सूँघना, जिह्वा से खाद्य-अखाद्य का स्वाद जानना, त्वचा से कोमल या कठोरता का अनुभव करना।

********

आज के विषय👇

1- ज्ञानार्जन के करण

2- प्रभावी वंदना

********

● प्रकरण से संबंधित pdf के लिए लिंक पर click कीजिये 👇

https://bit.ly/30P3mLU

https://bit.ly/30X7mKn

 (इस लिंक में आपको PPT एवं PDF लिंक पर क्लिक करने पर मिलेगी उसका ध्यान से अध्ययन करें।)👇

********

● प्रकरण से संबंधित video देखने के लिए लिंक पर click कीजिये।👇

https://bit.ly/2YpC26y

********

● आपको आज के प्रकरण में क्या समझ मे आया उसकी जांच के लिए नीचे दी गई QUIZ की लिंक पर click कर उत्तर दीजिये (लिंक रात्रि 🕗 8 बजे खुलेगी)👇

https://forms.gle/rKhiyci8fmYp2bqk6

********

कल की प्रश्नोत्तरी की उत्तरमाला एवं सूची देखने के लिए लिंक पर क्लिक कीजिये।👇

https://bit.ly/2Yy50RC

********

राकेश शर्मा

(निदेशक)

विद्याभारती E पाठशाला

No comments:

Post a comment