Lesson - 4 (परमेष्टिगत विकास)

 विद्याभारती E पाठशाला

Lesson - 4 (परमेष्टिगत विकास)

••••••••••••••••••••••

भारतीय शिक्षा दर्शन का विकास

विद्या भारती एवं राष्ट्र भक्त शिक्षा शास्त्रियों का यह स्पष्ट मत है कि शिक्षा तभी व्यक्ति एवं राष्ट्र के जीवन के लिए उपयोगी होगी जब वह भारत के राष्ट्रीय जीवन दर्शन पर अधिष्ठित होगी जो मूलतः हिन्दू जीवन दर्शन है.

••••••••••••••••••••••

आज के विषय👇

परमेष्टिगत विकास

एकात्मता स्त्रोत

••••••••••••••••••••••

● प्रकरण से संबंधित pdf के लिए लिंक पर clik कीजिये👇

https://bit.ly/2CHCpkY

https://bit.ly/3g8Yqri

 ( इस लिंक में आपको PPT एवं PDF लिंक पर क्लिक करने पर मिलेगी उसका ध्यान से अध्ययन कीजिये।)

••••••••••••••••••••••

● प्रकरण से संबंधित video देखने के लिए लिंक पर click कीजिये।👇

https://bit.ly/2FNcDx4

••••••••••••••••••••••

● आपको आज के प्रकरण में क्या समझ मे आया उसकी जांच के लिए नीचे दी गई QUIZ की लिंक पर click कर उत्तर दीजिये (लिंक रात्रि 8 बजे खुलेगी)👇

https://forms.gle/DQKze664jLFfLkJUA

••••••••••••••••••••••

*कल की प्रश्नोत्तरी की उत्तरमाला एवं

सूची देखने के लिए लिंक पर क्लिक

कीजिये*👇

https://bit.ly/32jbbdf

•••••••••••••••••••••••

राकेश शर्मा

(निदेशक)

विद्याभारती E पाठशाला

No comments:

Post a comment