संस्कृति बोध - 04 भारत के प्रमुख हिन्दू तीर्थ

विद्याभारती E पाठशाला
संस्कृति बोध - 04
भारत के प्रमुख हिन्दू तीर्थ
.........
भारत अनादि काल से संस्कृति, आस्था, आस्तिकता और धर्म का महादेश रहा है। इसके हर भाग और प्रान्त में विभिन्न देवी-देवताओं से सम्बद्ध कुछ ऐसे अनेकानेक प्राचीन और (अपेक्षाकृत नए) धार्मिक स्थान (तीर्थ) हैं, जिनकी यात्रा के प्रति एक आम भारतीय नागरिक पर्यटन और धर्म-अध्यात्म दोनों ही आकर्षणों से बंधा इन तीर्थस्थलों की यात्रा के लिए सदैव से उत्सुक रहा है।
तीर्थ संस्कृत शब्द है और इसका अर्थ है पाप से तारने, पार उतारने वाला। पुण्य पाप की भावना सभी धर्मों में हैं। इस भावना का, तीर्थ का अभिप्राय है पुण्य स्थान, अर्थात् जो अपने में पुनीत हो और अपने यहाँ आने वालों में भी पवित्रता का संचार कर सके। और ऐसा नहीं है कि भारतीय धर्मों में ही तीर्थ की मान्याता हो। बौद्ध, जैन और सिक्ख धर्मों के अलावा ईसाई, इस्लाम, पारसी, यहूदी, ताओ, शिंतो आदि धर्मों में भी तीर्थों की मान्यता है।

No comments:

Post a comment