Lesson 20 हनुमानाष्टक

Lesson 20 हनुमानाष्टक
1- हनुमानाष्टक
हिन्दू मान्यता अनुसार हनुमान जी की उपासन संकट, दुःख, तकलीफ से दूर करती हैं . कहते हैं बाल्यकाल में श्री हनुमान जी ने सूर्य देवता को फल समझ निगल लिया था फिट देवताओं ने उनसे प्रार्थना कर उनसे सूर्य को छोड़ने का आग्रह किया .
हनुमान जी को तीनो त्रिकाल स्वामियों से वरदान प्राप्त था . पवन देवता एवम अंजनी के पुत्र हनुमान ने एपीआई शरारतों से सभी लोगो को परेशान कर दिया था . उस वक्त इनकी शक्ति के दुरूपयोग पर अंकुश लगाने हेतु इन्हें श्राप दिया गया कि जब तक हनुमान जी को उनकी शक्ति याद नहीं दिलाई जायेगी तब तक उन्हें उसका भान नहीं होगा . इसलिए ही सीता मैया की खोज के समय जामवंत ने हनुमान को उनकी शक्ति याद दिलाई थी जिसके बाद वे समुद्र पार जा कर सीता मैया की खबर लाये .
इसी कहानी को ध्यान में रखते हुए कहा जाता हैं कि हनुमान जी की प्रार्थना करते वक्त उन्हें अपने दिल की बात बार- बार कहनी चाहिये क्यूंकि वे भूल जाते हैं .

pdf देखें..........
Lesson 20 हनुमानाष्टक
2- बोधकथा- गुब्बारे

विडियो....
https://www.youtube.com/watch?v=fbgDUYPF5Fk

No comments:

Post a comment