Lesson- 17 अंकगणित अथवा अंकगणित की मूल प्रक्रियाएँ

Lesson- 17 अंकगणित अथवा अंकगणित की मूल प्रक्रियाएँ
1- अंकगणित अथवा अंकगणित की मूल प्रक्रियाएँ-1
अंकगणित (ग्रीक मेंΑριθμητική, जर्मन मेंArithmetik, अंग्रेजी मेंArithmetic) गणित की तीन बड़ी शाखाओं में से एक है। अंकों तथा संख्याओं की गणनाओं से सम्बंधित गणित की शाखा को अंकगणित कहा जाता हैं। यह गणित की मौलिक शाखा है तथा इसी से गणित की प्रारम्भिक शिक्षा का आरम्भ होता है। प्रत्येक मनुष्य अपने दैनिक जीवन में प्रायः अंकगणित का उपयोग करता है। अंकगणित के अन्तर्गत जोड़, घटाना, गुणा, भाग, भिन्न, दशमलव आदि प्रक्रियाएँ आती हैं।
इतिहास
मनुष्य आरम्भ से ही सामाजिक प्राणी रहा है तथा अपने प्रारम्भिक काल में कबीला बना कर रहा करता था। जब कबीले के सदस्यों में वृद्धि होने पर उनकी गिनती करने के लिये अंकों की आवश्यकता पड़ी। अंक बनाने के लिये मनुष्य की अंगुलियाँ आधार बनीं। अंको के इतिहास के विषय में बहुत कम जानकारियाँ उपलब्ध हैं। कहा जाता है कि ईसा पूर्व 1850 में बेबीलोन के निवासी गणित की प्रारम्भिक प्रक्रियाओं से अच्छी तरह से परिचित थे। भारत में अंकगणित का ज्ञान अत्यन्त प्राचीनकाल से रहा है तथा वेदों में गणितीय प्रक्रियाओं का उल्लेख है। शून्य भी भारत की ही देन है।
अंक
शून्य से लेकर नौ को प्रदर्शित करने वाले संकेतों को अंक कहते हैं। अंक ही गणित का मूल है। दैनिक जीवन के अधिकांश कार्यों में अंकों का प्रयोग होता है।
संख्या
एक से अधिक अंकों को एक के पास एक रखने से संख्या बनती है। अंक केवल दस होते हैं किन्तु संख्याएँ अनन्त हैं।
अंक
देवनागरी लिपि के अंक : ०१२४५६७८९
अरबी लिपि के अंक : ۰ ١ ٢ ٣٤٥٦٧٨٩
रोमन लिपि के अंक : I,II,III,IV,V,VI,VII,VIII,IX,X
हिन्दू-अरबी अंक : 0123456789
सर्वप्रथम ब्रह्मी लिपि में अंकों का विकास हुआ था। उसके बाद अन्य भारतीय लिपियों में इसका उपयोग होने लगा। इसके बाद अरब से लोग जब आए तो अपने साथ ही इन अंकों के ज्ञान को ले गए और अरबी लिपि में भी इस तरह के अंकों का विकास हुआ। रोमन लिपि के अंकों को पढ़ और याद करना पाना बहुत कठिन काम था। इसके बाद भारतीय अंकों को देख कर हिन्दू-अरबी अंक बनाया गया। इसे कई लोग भारतीय अंकों का अंतरराष्ट्रीय रूप भी कहते हैं। कई बार इसे अरबी अंक भी कहा जाता है। इसे मुख्य रूप से हिन्दू-अरबी अंक कहा जाता है।


pdf देखें....
Lesson- 17 अंकगणित अथवा अंकगणित की मूल प्रक्रियाएँ
2- गणित शिक्षण -17 समय तथा दूरी 
3- वैदिक गणित सवाल- 7

विडियो......
https://www.youtube.com/watch?v=FpVLfZEvVcc

No comments:

Post a comment