Lesson 20 विद्युत (भौतिक विज्ञान)

Lesson 20 विद्युत (भौतिक विज्ञान)
1- विद्युत (भौतिक विज्ञान)
ऊर्जा के सभी रूपों के बीच विद्युत (विद्युत ऊर्जा) सदैव एक आश्चर्यजनक रूप रही है। यह सभी प्राणियों और मानव निर्मित मशीनों में नियन्त्रण का एकमात्र परम माध्यम है। यह हमारे चारों ओर उपस्थित बहुत सी उपयोगी मशीनों को भी ऊर्जा देती है। मानवता ने विद्युत के एक भयानक और खतरनाक रूप - आकाशीय बिजली - के साथ अपनी यात्रा प्रारम्भ की थी। जैसे-जैसे विज्ञान के बारे में हमारे ज्ञान में वृद्धि हुई, विद्युत और विभिन्न विद्युतीय घटनाओं के बारे में हमारी समझ भी बेहतर होती गई। अब हम विद्युत ऊर्जा की एक विशाल राशि को नियन्त्रित (उत्पन्न, स्थानान्तरित और उपयोग) कर सकते हैं। आज, विद्युत के रूप में ऊर्जा की खपत विश्व की कुल ऊर्जा खपत की १८% से अधिक है। विद्युत विभिन्न कार्यों को करने हेतु असंख्य विद्युत के उपकरणों को चलाने के लिए प्रयोग की जा रही है। आज, अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष केन्द्र और बहुत से उपग्रह पृथ्वी के चारों ओर घूमते हैं; दूसरी ओर, मानव निर्मित जाँच-पड़ताल रोबोट हमारे सौर मंडल के अन्य ग्रहों और हमारे तारे (सूर्य) के पास पहुँच गए हैं। लार्ज हैड्रान कोलाइडर (जिनेवा, स्विट्जरलैंड में स्थित) पृथ्वी पर मानवता द्वारा बनाई गई सबसे बड़ी मशीन और सबसे जटिल प्रायोगिक सुविधा है।

पीडीएफ देखें........
Lesson 20 विद्युत (भौतिक विज्ञान)
2- विज्ञान शिक्षण की विधियाँ.....
3- विज्ञान प्रयोग

विडियो देखें ....
https://www.youtube.com/watch?v=evUO1WeRB1Y
https://www.youtube.com/watch?v=NsQiVIPy6CA
https://www.youtube.com/watch?v=ZXjs66819i0

No comments:

Post a comment