Lesson- 10 पर्यावरण

Lesson- 10 पर्यावरण
1-पर्यावरण : सामाजिक मुद्दे
मानव जीव-जगत् का विकसित सदस्य है। प्राचीनकाल से ही मानव और प्रकृति का घनिष्ठ संबंध रहा है। आदिकाल से ही सभ्यता के विकास में प्रकृति ने महत्वपूर्ण भूमिका अदा की है। पर्यावरण बाहरी प्रभावों की वह संपूर्ण श्रेणी है, जो किसी जीव को प्रभावित करती है। वह स्थान जहां कोई जीव रहता है, उसे आवास कहा जाता है।
जहां पर्यावरणीय अवस्थाओं का विशेष समुदाय पाया जाता है, उसे पर्यावरणीय संकुल कहा जाता है। पर्यावरण उन समस्त भौतिक एवं जैविक दशाओं का योग है, जो किसी जीव की अनुक्रियाओं के लिए उत्तरदायी होता है। साधारण शब्दों में कहा जा सकता है कि वायुमंडल के चारों ओर फैले हुए वातावरण को हम पर्यावरण कहते हैं।
मनुष्य द्वारा ही प्राकृतिक संसाधनों का अधिकाधिक उपयोग किया जा सकता है। मनुष्य ने ही प्रकृति के साथ सामंजस्य स्थापित करने के लिए अनेक बेहतर प्रयास किए हैं। अब ये प्रयास धीरे-धीरे प्रकृति में परिवर्तन का कारण बन गए हैं। मनुष्य ही प्रकृति को संवारता है और उसे नष्ट भी करता है, जिससे वह जाने-अनजाने में स्वयं प्रभावित होता है।

2- जाने ऐसा क्यों- फरवरी माह में 28 या 29 दिन ही क्‍यों होते हैं
3- विज्ञान प्रयोग - विस्थापन अभिक्रिया (Displacement Reaction)

Lesson- 10 पर्यावरण pdf 
जाने ऐसा क्यों pdf
विज्ञान प्रयोग pdf





No comments:

Post a comment